Tuesday, 15th October, 2019

बिग बॉस 9 में वाइल्ड कार्ड एंट्री न मिलने से राहुल बाबा नाराज़

21, Oct 2015 By anandnirmal

इडियट बॉक्स पर प्रसारित हो रहे इडियट मोस्ट शो बिग बॉस के नौवें संस्करण में वाइल्ड कार्ड एंट्री ना मिल पाने से नाराज़ राहुल बाबा ने चैनल को चेतावनी दी है। राहुल बाबा का कहना है की चैनल को बिग बॉस में प्रतियोगियों के चयन के मापदंडों का सार्वजनिक खुलासा करना चाहिए। उनके अनुसार चूँकि बिग बॉस भाग लेने वाले प्रतिनिधि असल जीवन में अपनी फ्लॉपनेस के आधार पर चुने जाते हैं, इस मापदंड के अनुसार उन्हें वाइल्ड कार्ड से प्रवेश हेतु सर्वोच्च वरीयता दी जाना चाहिए थी, किन्तु उनसे कम नाकारा लोगों को प्राथमिकता दे कर चैनल ने भेदभाव किया है।

बस एक बार यहाँ के बिग बॉस से भी वाइल्ड-कार्ड एंट्री मिल जाए, जैसे हमारी पार्टी के बिग बॉस (ममा) ने 2014 जनरल एलेक्षन के रिज़ल्ट के बाद भी पार्टी वाइस-प्रेसीडेंट के पद के लिए एंट्री दिलवाई थी
बस एक बार यहाँ के बिग बॉस से भी वाइल्ड-कार्ड एंट्री मिल जाए, जैसे हमारी पार्टी के बिग बॉस (ममा) ने 2014 जनरल एलेक्षन के रिज़ल्ट के बाद भी पार्टी वाइस-प्रेसीडेंट के पद के लिए एंट्री दिलवाई थी

राहुल बाबा ने पत्रकार वार्ता में दस्तावेज तथा बिग बॉस के पिछले संस्करणों की क्लिपिंग्स दिखाते हुए कहा कि पिछले कई सालों से अपने-अपने क्षेत्रों में फ्लॉप रहे, वर्तमान में बेकार बैठे, ‘गे’ नुमा व्यक्तियों को अवसर दिए गए, परन्तु तमाम अर्हताएं पूरी करने के बावजूद वे आज तक इस शो में स्थान नहीं बना पाये।

अपनी ‘माँ की बात’ कहते हुए राहुल बाबा ने बताया – विदेश में छुट्टी पर बजाए मुझे देश में ही जनता से जुड़ते हुए देख कर माँ को ख़ुशी के आंसू आ जाते। डबल-ट्रबल की थीम तो मानो हमारे परिवार के लिए ही बनी थी।

उन्होंने सत्तारूढ़ पार्टी के नेता पर आरोप लगाते हुए कहा कि केंद्र की नीतियाँ किसान और मजदूर विरोधी हैं. किसानों और मजदूरों का मनोरंजन करने वाले को रोकने के लिए चैनल पर दबाव डाला गया।

इस मुद्दे पर पहले तो चैनल के प्रतिनिधियों ने चुप्पी साध ली, लेकिन दबाव डालने पर चैनल के प्रवक्ता ने दबी जुबान में कहा कि चैनल के सेलेक्टर्स ने वूमेन एम्पावरमेंट के नारे को सीरियसली लिया हुआ है, इसी लिए राहुल बाबा का नाम अंतिम सूची में से हटाकर एक महिला का नाम डालना पड़ा। हालॉंकि अपुष्ट सूत्रों के हवाले से यह खबर आई है जैसे ही राहुल बाबा संसद में अपने नामलेवाओं की संख्या चवालीस से शून्य पर लाने में सफल हो जायेंगे उन्हें न्यौता भेज दिया जायेगा।