Friday, 15th November, 2019

चुनावी हार के बाद राहुल गाँधी "कलंक नहीं इश्क़ हैं काजल पिया"- गाते पाए गए: बीजेपी में ख़ुशी की लहर

09, Jul 2019 By Ravi Raj

ये सब जानते हैं के राहुल गाँधी पिछले एक महीने से इस्तीफा पेश किये बैठे हैं.. इतना लम्बा तो मोदी जी के मन की बात नहीं होती है जितनी लम्बी ये इस्तीफे के पेशकश हो गयी है.. इस पूरे वाकये में सबसे ज्यादा हड़कंप बीजेपी की तरफ मचा हुआ है.. सारे बीजेपी के सांसद भगवान से यही मना रहे हैं के राहुल गाँधी इस्तीफ़ा न दें.. 302 सीटों में कम से कम 100 सीट तो राहुल गाँधी ने अकेले दिलाई है बीजेपी को..

बेटा गाते हुए, माँ रोते हुए
बेटा गाते हुए, माँ रोते हुए

अब अचानक एक गाने ने बीजेपी मुख्यालय में ख़ुशी की लहर दौड़ा दी है.. हुआ यूँ के कल के लोकसभा के सेशन के दौरान कुछ लोगों ने राहुल गाँधी को कलंक फिल्म का जोरदार गाना “कलंक नहीं इश्क़ है काजल पिया” गाते हुए सुन लिया है.. अब इसका ये मतलब लगाया जा रहा है के राहुल गाँधी अब अपनी कांग्रेस अध्यक्ष की कुर्सी को कलंक नहीं मान रहे हैं.. वो अब समझ गए हैं के ये कुर्सी एक काजल की तरह है जो आगे उनकी आँखों में लगने वाली है.. बस उन्हें सही समय का इंतज़ार करना होगा..

हालाँकि कांग्रेस के लोगों ने इसको उतनी तरजीह नहीं दी है पर बीजेपी वाले इस गाने को सुन कर बहोत खुश हैं.. उन्हें इस गाने में आशा की एक नयी किरण नज़र आ रही है.. उधर सोनिआ जी को जब ये बात पता चली तो उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा के.. ये गाना किसी राजनीति से जुड़ा हुआ नहीं है.. ये तो किसी लड़की से जुड़ा हुआ लग रहा है.. लगता है राहुल बाबा अब मेरे लिए एक बहु का इंतेज़ाम जल्द करेंगे.. मोदी जी की इस बात पर अभी तक कोई प्रत्रिक्रिया नहीं आयी है.. वो कामदार vs नामदार वाला एंगल इसमें ढूंढ रहे हैं.. जैसे ही कोई एंगल मिलेगा.. वो जल्द अपने चहेनलों (चहेते चैनलों) पर अपनी प्रत्रिक्रिया देंगे..