Saturday, 21st September, 2019

खुलासाः माइक्रोमैक्स ने रोड रोलर चलाकर जो मोबाइल फ़ोन कुचले थे, उनमें एक मोबाइल प्रधानमंत्री मोदी का भी था

02, May 2016 By बगुला भगत

नयी दिल्ली. देश की जानी-मानी स्मार्टफ़ोन निर्माता कंपनी माइक्रोमैक्स मुसीबत में फंस गयी है। उस पर आरोप है कि उसने रोड रोलर चलाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मोबाइल फ़ोन तोड़ दिया।

Micromax2
चोरी के मोबाइल फ़ोन्स कुचलता माइक्रोमैक्स का विदेशी कर्मचारी

दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि “माइक्रोमैक्स ने कुछ दिनों पहले रोड रोलर चलाकर दूसरी कंपनियों के जो लाखों मोबाइल फ़ोन रौंदे थे, उनमें से ज़्यादातर चोरी के थे। वरना रौंदने के लिये उनके पास इतने सारे मोबाइल कहां से आये!”

“और उन्हीं में से एक मोबाइल हमारे प्रधानमंत्री जी का भी था। जो उस समय चोरी हो गया था, जब वो प्लेन में सो रहे थे। उसके ना होने से उन्हें बहुत परेशानी हो रही है क्योंकि उनका सेल्फ़ीज का सारा कलेक्शन उसी फ़ोन में था।” -श्री प्रसाद ने कहा।

हालांकि माइक्रोमैक्स इससे इनकार कर रही है। कंपनी के चेयरमैन संजय कपूर का कहना है कि “हमने जिन मोबाइल्स पर रोड रोलर चलाया था, वे हमारी अपनी ही कंपनी के थे, जो बिक नहीं पा रहे थे।”

लेकिन श्री प्रसाद ने कपूर के इस दावे को झूठा बताते हुए कहा है कि “असल में, यह कंपनी अपने स्मार्टफ़ोन्स की बिक्री में आयी गिरावट से परेशान थी और इसके आधे कर्मचारी काम ना होने की वजह से खाली बैठे थे। कंपनी के मैनेजमेंट ने सोचा कि लोग हमारा मोबाइल तभी खरीदेंगे, जब उनका पहला मोबाइल ग़ायब हो जायेगा।”

“इसलिये उन्होंने अपने खाली बैठे कर्मचारियों को मोबाइल चुराने के काम पर लगा दिया। हर कर्मचारी को एक मई तक कम से कम 10 मोबाइल चुराकर लाने का टारगेट दिया गया, जो उन्होंने 15 अप्रैल तक ही अचीव कर लिया।” -प्रसाद ने आगे बताया।

फिलहाल, जांच एजेंसियां उस विदेशी नागरिक की तलाश कर रही हैं, जो रोड रोलर चला रहा था। आशंका है कि वो भी विजय माल्या की तरह देश छोड़कर भाग गया है। माल्या जी देश के आधे बैंकों की कमर तोड़कर भाग गये और ये देश के आधे मोबाइल तोड़कर भाग गया।