Thursday, 19th July, 2018

मोदी के सफाई अभियान को विरोधी दलों ने बताया फासीवादी विचार

21, May 2014 By A. Jayjeet

भावी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बनारस में लोगों से सफाई अभियान में सहयोग क्या मांगा, देश भर में इस पर कड़ी प्रतिक्रिया आई है।

अनेक पान पीक अधिकार संघों ने इसकी तीखी आलोचना करते हुए इसे थूकने और कचरा फैलाने के संविधान में प्रदत्त उनके मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करार दिया है। विरोधी दलों के नेताओं ने इसे देश में फासिस्ट युग की शुरुआत का संकेत बताया है।

Paan
पान खा कर इधर उधर थूकना तो हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है।

नरेंद्र मोदी ने शनिवार शाम को बनारस में गंगा आरती के बाद वहां उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा था कि वे पूरे देश में सफाई अभियान शुरू करना चाहते हैं। इसके लिए उन्होंने आम लोगों से भी इसमें सहयोग करने का आग्रह किया था।

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने नरेंद्र मोदी के इस आह्वान पर चुटकी लेते हुए कहा कि हमने पहले ही आगाह किया था कि मोदी के आने से देश में हिटलरशाही लागू हो जाएगी। मोदी का यह बयान इसी का संकेत है। दिग्गी राजा ने ट्वीट करते हुए कहा, ‘लो भाइयो, अच्छे दिन आ गए। अब आप सड़क पर पान की पीक भी नहीं मार सकते।’

जदयू ने मोदी के इस आह्वान को घोर फासीवादी मानसिकता करार दिया है। समाजवादी पार्टी के आजम खान ने कहा कि मोदी ने सफाई अभियान की बात करके अल्पसंख्यकों को साफ करने के अपने साम्प्रदायिक एजेंडे को उजागर कर दिया है। ऐसे में सभी धर्मनिरपेक्ष दलों को इसके खिलाफ एक हो जाना चाहिए। अखिल भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी ने ‘जोर-जुल्म की टक्कर में थूकना हमारा नारा है’ कहकर मोदी की आलोचना की है।

अखिल भारतीय पान पीक मोर्चा के राष्ट्रीय संयोजक पानप्रसाद ने एक बयान में कहा कि पूरे देश ने मोदी को समर्थन दिया है। मोदी ने वोट मांगे, देश ने उन्हें वोट दिए। लेकिन अब मोदी चाहते हैं कि देश के निवासी पान खाकर इधर-उधर थूके नहीं, कचरा नहीं फेंकें।

यह लोगों पर ज्यादती है और हम इसका कड़ा विरोध करते हैं। गुटखा-पाउच पीक संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजश्री पराग ने कहा कि पान-तंबाकू खाकर सड़क पर पीक मारना और इधर-उधर कचरा फेंकना भारतीय संस्कृति का परिचायक है। यह हमारी प्राचीन परम्परा है और अब मोदी इसे छोड़ने का आह्वान रहे हैं। हम इसका विरोध करते हैं। उन्होंने कहा कि संघ की राज्य इकाइयां सोमवार को सभी राज्यों की राजधानियों की प्रमुख सड़कों पर थूककर और कचरा फैलाकर एक दिनी सांकेतिक प्रदर्षन करेगी। जरूरत पड़ने पर ‘हम तो थूकेंगे’ अभियान चलाने पर भी विचार किया जाएगा।