Wednesday, 13th November, 2019

केसर शिलाजीत ने बचाई लापता छात्रों की जान

10, Oct 2015 By किल बिल पांडे

कहते है कि ज्ञान जहाँ मिले वहीँ लपेट लो ना जाने कब काम आ जाए । कुछ ऐसा ही हुआ जोधपुर के समीप घने रेगिस्तान में जहाँ छात्रों का एक समूह बीते सितम्बर के आखिरी हफ्ते से लापता बताया जा रहा था । दरअसल अपने इंजीनियरिंग के दौरान बंक कर घूमने की रघुकुल रीत निभाते हुए उत्तर प्रदेश के “करीमगंज ग्रुप ऑफ़ इंस्टीट्यूट” के चार छात्र राजस्थान भ्रमण का इरादा लिए बीते सितम्बर ही जोधपुर पहुंचे थे । पहले कुछ दिन तो सब ठीक रहा लेकिन तीसरे दिन “प्लेसेस यू मस्ट विजिट इफ यू आर इन राजस्थान ” नामक एक लेख में महिमामंडित “घंटा घर” का रास्ता खोजने का विचार सब पर उस समय भारी पड़ गया जब एप्पल मैप्स ने उन्हें गंतव्य से कोसो दूर एक सुनसान रेगिस्तान में ला पटका ।

रेगिस्तान में थिरकती डांसर्स

अपनी यात्रा को याद कर एक छात्र भुवनेश शेट्टी ने बताया कि उन्हें  खो जाने का एहसास तब हुआ जब सबकी फ़ोन की बैटरी एक – एक कर दम तोड़ने लगी और पांच मिनट से ज्यादा समय से अपना स्टेटस अपडेट ना करने से हुई तिलमिलाहट सबके चेहरों पर दिखने लगी ।

बाद के कुछ घंटे एक दुसरे पर इलज़ाम लगाने के बाद सबको एहसास हुआ कि इस मरुस्थान में जीवित रहने के लिए धीरे धीरे संसाधनों की कमी पड़ने वाली थी । बीअर ग्रील्स के बहुप्रतिस्थित शो “मैन वर्सेज वाइल्ड” के सारे संस्मरणो का सार बना सब ने तय नीति के साथ कैलकुलस और इंटीग्रेशन की सहायता से दिशाओं की गणना कर पहुंचे रस्ते पर आगे बढ़ना शुरू कर दिया और पूरा दिन चलते रहे । पर अगले दिन सबके शरीर में पानी से हुई कमी का असर साफ़ देखा जाने लगा और सब एक एक कर निढाल होने लगे ।

सब लगभग अपने बचने की आस छोड़  चुके थे कि तभी चारों छात्रों में से एक ने इस मुश्किल घडी में पान मसाला खाने का सुझाव दिया और “बहक केसर शिलाजीत” का एक एक पैकेट सबको पकड़ा डाला । अनजाने में लिया गया  ये  फैसला उस समय सब के लिए चमत्कारी सिद्ध हुआ जब अचानक से वीरान पड़े रेगिस्तान में सबके सामने कुछ न्रित्यांग्नाएं मेन डांसर के साथ प्रकट हो गयी ।

इस से पहले  चारो छात्र कुछ समझ पाते अपने आप शुरू हुए बैकग्राउंड म्यूजिक पर सब अपने चित परिचित अंदाज़ में थिरकने लगी और जल्दी से परफोर्मेंस खत्म कर सब को उसी हाल में छोड़ चलती बनी । हालाँकि इंसानियत को शर्मशार करने वाले इस इस व्यवहार से चारों आहत थे लेकिन अचानक दिखी इस हरियाली ने सब के अन्दर इतनी स्फूर्ति का संचार कर दिया कि सब अपनी थकान भूल कुछ किलीमीटर और चल सुरक्षित पास के गाँव पहुँच गए जहाँ से उनकी सूचना स्थानीय पुलिस को दे दी गयी । चारो छात्रों को तुरंत जिला हस्पताल में इलाज के लिए भेज दिया गया जहाँ उनकी हालत सामान्य से बेहतर बताई जा रही है

जहाँ एक ओर देश में इस घटना के बाद पान मसाले के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रभावों को लेकर नयी बहस छिड गयी है वहीँ राज्य सरकार ने डांसर्स के इस अमानवीय व्यवहार की जांच के लिए कमेटी बनाने का ऐलान कर दिया है ।