Monday, 27th May, 2019

स्वच्छता अभियान को लगा बड़ा झटका

15, Mar 2019 By akumar

देश के कई शहरों से स्वच्छता अभियान के असफल होने की ख़बर आ रही हैं. बहुत जगहों पर बदबू का एहसास हुआ हैं. ये बदबू उन इलाकों में ज्यादा सूंघी जा रही हैं जहाँ देशप्रेम का ज्यादा प्रदर्शन होता हैं. पहले तो लोगों को लगा की मुन्सिपलिटी वाले हरेक महीने के आरंभ की तरह हड़ताल पर हैं. कूड़े के ढेर पर नेताओं की चुप्पी से लोगों की समझ में आया कि बात कुछ और  हैं.

seven year old boy holding his nose as after smelling a bad odor, isolated on white background

फेकिंग न्यूज़ ने जब जानकारी प्राप्त की तो कुछ आश्चर्यजनक तथ्य सामने आये. ये पता चला कि बदबू और कहीं नहीं, राह चलते लोगो से आ रही हैं। अधिक जानकारी हमें कुछ दुकानदारों ने दी. देशप्रेम दर्शाने के चक्कर में कुछ लोगों ने नहाना और कपड़े धोना बंद कर रखा हैं. कपड़े धोने के साबुन और डिटर्जेंट के ज्यादातर ब्रांड दोषी कम्पनी हीं बनाती हैं. लोगों का इस मल्टी-नेशनल कम्पनी विरोध के कारण ऐसे हालात पैदा हो गए हैं. एक और दुकानदार ने कहा कि स्थिति और भयावह हो सकती हैं. ये कम्पनी डिओडरंट बनाने में भी अग्रणी हैं.

मेक-अप, सौन्दर्य प्रसाधन के बहुत सारे सामान भी यही कम्पनी बनाती हैं। इन वस्तुओँ के बॉयकॉट से एक और भयानक स्थिति बन रहीं हैं. नए युग में  प्रचलित  इंस्टेंट ब्रेक-अप में भी अत्यधिक बढ़ोतरी आयी हैं. बहुत लोगों को “क्या सोचा था -क्या निकले तुम” जैसे शायरी बकबकाते पाया गया हैं.

एक ऐसे ही बेतुके शायर में अपनी भूतपूर्व सुंदर मेहबूब के लिए  दीवाल लिखा हैं –

जान देने पहुँचे थे कितने तेरे गली; भागे सब किसी ने पलट नहीं देखा

“ऐसे भयंकर चुनौतियाँ  हमेशा  तरह कुछ मौके देते हैं. हमें राष्ट्र -निर्माण में अपना योगदान बढ़ाना चाहिए.”  एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक व्यवसायी योग-गुरु समझते हुए पाए गए .कुछ दिन पहले भी इसी कंपनी के चाय विज्ञापन पर देश चाय -मुक्त हुआ था.