Monday, 27th May, 2019

टमाटर हुआ तौबा -तौबा

25, Feb 2019 By akumar

जब से टमाटर की तौबा -तौबा का वीडियो वायरल हुआ हैं, पुरे देश में इसकी चर्चा जोरों पर हैं। वायरल वीडियो पर तरह -तरह की प्रतिक्रियाएं मिल रही हैं। वीडियो पर सुझाव देने वालो में क्रिकेट, पत्रकार, आम जनता शामिल हैं। एक बाबा जो कल तक टमाटर को विलायती और किडनी -नाशक बताते थे, आज अपनी आयुर्वेद की ओखली में  प्यूरी कूटते देखे गए। नयी जोश -वर्द्धक टिमाटर प्यूरी के प्रचार में अपने उत्पाद का स्वयं प्रचार करेँगे बाबा। जोश में तो बाबा रणवीर सिंह का होश उड़ा देते हैं।

बाबाजी ने एक मीडियाकर्मी से बात करते हुए सरकार  से यह मांग कि  गायों, घृत कुमारी (आलो वेरा) की प्रजातियों के अलावा टमाटर की प्रजातियां भी पाठ्य क्रम  में शामिल हो।

टमाटर युद्ध में विजयी युवक का सत्कार करती उसकी पत्नी 
टमाटर युद्ध में विजयी युवक का सत्कार करती उसकी पत्नी

क्रिकेट वाले नाइंसाफी बता रहे है इस वीडियो को। इससे अच्छा बन जाता अगर इसके बोल “तौबा-तौबा ” की जगह “मौका -मौका ” हो जाता। कुछ पुराने क्रिकेटर इस वीडियो को देख कर टमाटर की तरह लाल पड़ गए हैं।

एक पाज़ी का कहना हैं कि इसने हमारे पेट पर लात मार दी हैं। दुसरे का कहना हैं की शांति को आने दो, यही तौबा और टमाटर हमें प्रचार के साधन देंगे। तीसरे के मुँह से कोई आवाज़ न निकली, बस हाथों से इशारा किया, जैसे ठोंको ताली।

इधर पकौडे तलने के बाद आम युवा को एक नए व्यवसाय का पता चल गया हैं।

मुंबई –

भारत – निर्माण सेना से फिल्म जगत को ये फ़रमान भी सुना दिया हैं कि हरेक फिल्म में टमाटर फोड़ने का सीन होना चाहिए। अगर बिन माड़ -धाड़ का सिनेमा है तो नायक -नायिका का स्पेन वाला टमाटर गाना होना चाहिए।

पत्रकारों का एक समूह ये पता करने में जुटा कि तैमूर अली खान साहेब को टिमाटर कितना पसंद हैं।

एक समूह जो वैलेंटाइन डे पर बहुत सक्रिय रहता है उसे टमाटर -प्रेम को नया आयाम दिया हैं।  अब पार्क में बैठे जोड़ियों को एक बोरी टमाटर खरीदने से वहीं बैठे रहने कि अनुमति मिल जाएगी, अन्यथा….

कम खाइये छुहाड़ा और खजूर; टमाटर भकोसिये मेरे हुज़ूर

@khakshar