Tuesday, 13th November, 2018

बोर्ड का पेपर कभी लीक हुआ ही नहीं: बिगड़ा था मंत्रियों के परिजनों का पर्चा

11, Apr 2018 By aashcharya janak

नई दिल्ली. CBSE बोर्ड के पेपर लीक मामले में चौका देने वाला खुलासा हुआ है। छोटू,जिन्हें की अब ‘whistleblower’ बताया जा रहा है, ने हमारे न्यूज़ स्टूडियो में आकर यह ख़बर दी।

“मैंने उस दिन मंत्री मंडल की बैठक में चाय बाँटते हुए यह बात सुनी। दरअसल सारे मंत्री, जिनके बच्चे-नाती-पोते इस साल बोर्ड की परीक्षा दे रहे थे, आपस में चर्चा कर रहे थे। दसवीं के गणित और बारहवी के इकोनॉमिक्स के पेपर को लेकर ख़ास चिंता थी। तब ही शिक्षा मंत्री के सर की मालिश कर रहे नाई ने बोला – इसमें कौन बड़ी बात है? दोबारा परीक्षा करा लीजिये। बोल दीजियेगा की पर्चा लीक हो गया था। सब ही मंत्रियों ने इस पर हामी भरी जिसके बाद यह प्लान तैयार किया गया। ”

CBSE के निर्देशक का कहना है “हमारे कस्टमर्स जानते हैं की जब चीटिंग जैसे आसान उपाय मौजूद हैं, तो पेपर लीक करा के दोबारा परीक्षा देने का ताम-झाम क्यों? छोटू जी सच बोल रहे हैं।”

हमने छोटू जी से पुछा की उन्हें जान का ख़तरा हो सकता है। तो उन्होंने जवाब दिया “मरने से डर नहीं लगता साहब, चाय ठंडी हो जाने से लगता है। देश का ज़िम्मेदार नागरिक होने के नाते मैंने यह कदम उठाया है। अब मैं सरकार के लिए काम नहीं करता। मैं अब एक कामयाब ‘enterpreneur’ हूँ। सरकार को चाय बेच-बेच कर मैंने इतने पैसे कमा लिए हैं की अब मेरा अपना बिज़नेस एम्पायर है। मेरी बहन प्राईवेट जेट से कॉलेज जाती है। मेरे पास अपनी पर्सनल सिक्योरिटी है।”

वहीं इस ख़बर के आने से IIM के निर्देशक ने चाय की चुस्की भरते हुए हमसे कहा “इस चाय के धंधे ने प्रधान मंत्रियों से लेकर बिज़नेस tycoons को जन्म दिया है। हम इस पर शोध कर देखना चाहते हैं की असली बात इन लोगों में, इनकी चाय में, या चाय बेचने की इस लाइन में है?”